Kartik Mishra

“मेरा बचपन”

वो बचपन का ज़माना था,
जिसमें खुशियों का खज़ाना था,
चाँद को पाने की चाहत थी लेकिन,
दिल तितली का दीवाना था ।

वो कोयल की कुहू,वो चिड़ियों का गाना,
वो नदियों में,नहरों में गोते लगाना,
वो बसंत की हवाएँ,वो गर्मी का मौसम,
आम अमरुद के पेड़ों पर डेरा जमाना ।

वो रंगीबिरंगी पतंगें उड़ाना,
पतंगों के पीछे मीलों भाग जाना,
पतंगों सा उड़ने की चाहत थी लेकिन,
जब उड़ने लगे, हुआ बचपन बेगाना ।

वो बारिश के पानी में ठुमके लगाना,
स्कुल ना जाने का मिलता आसां बहाना,
वक़्त भी रोक पाते मिट्टी के बांध अगर,
रोक लेते वो बचपन,वो गुज़रा ज़माना ।

वो सावन के झूले,वो बचपन की मस्ती,
देखने वो नज़ारा,आज आँखें तरसती,
न जाने कहाँ खो गई वो बचपन की अमीरी,
वो बारिश का पानी,वो काग़ज़ की कश्ती ।

वो मिट्टी के पत्थर के किले बनाना,
शौक से गुड्डे-गुड़ियों की शादी रचाना,
घड़ी दो घड़ी रुठ भी जाते अगर,
भूल कर सारे शिकवे,फिर वो घुलमिल जाना । 

ना वजह रोने की थी,ना हँसने का बहाना,
हर घड़ी मस्ती थी,था हर मौसम सुहाना ।
कितना प्यारा निराला था बचपन का मेला,
ना 'कल' की फिकर थी,ना 'कल' का ठिकाना ।

वो किताबों की दुनियां में कहीं खो जाना,
वो परीक्षा की घड़ियां,घर से बाहर न जाना,
आज फिर याद आई हैं बाते पुरानी,
वो पढ़ना पढ़ाना,वो आँसूं बहाना ।

वो कंचे,लगोरी,वो छुप्पन छुपाई,
लूडो, सापसीढ़ी,वो चोर सिपाही,
जब जब बिजली कटती थी रात में,
अंताक्षरी के गानों ने महफ़िल सजाई ।

ना जाती धरम,ना कोई रंग था,
ना मज़हब,ना सीमा,ना कोई जंग था ।
ना आगे जाने की होड़ थी,ना दुनिया की दौड़ थी,
हर खेल में साथी थे,हर कोई संग था ।

छूटी वो बचपन की प्यारी सी होली,
छूटी वो दिवाली,वो यारों की टोली,
छूट गया वो हसीं दौर हाथ से रेत सा,
वो चूरन की पुड़िया,वो सन्तरे की गोली ।

आज फिर मुझे मेरे गाँव की याद आई हैं,
वो बचपन,वो आम की छाँव याद आई हैं,
दौड़ धूप में गुज़र जाते हैं अक्सर दिन अब तो,
खेलकर लौटते थे,वो 'शाम' याद आई हैं ।

वो शाम याद आई हैं..

© Kartik Mishra 2017
www.fb.com/karthik.mishra.5

Continue reading ““मेरा बचपन””

Advertisements

सब जाग रहे, तू सोता रह..

सब जाग रहे, तू सोता रह
अपनी किस्मत पर रोता रह..

कितना पिछड़ चुका है तू,
इस बात का तुझे अंदाजा है ?
क्यों मेहनत से मुंह मोड़ लिया
क्यों बंद किया दरवाजा है ?
दुनिया से नाता तोड़ दिया
बस दुःख में दुःखी होता रह..
सब जाग रहे, तू सोता रह
अपनी किस्मत पर रोता रह..

हां मान लिया, है दर्द तुझे
पर उससे बड़ी तेरी मंजिल है
क्यों मार दिया उन ख्वाबों को
जो ख्वाब सहेजे तेरा दिल है,
गिरकर भी उठना सीख गए सब
तू नए-नए बहाने बनाता रह..
सब जाग रहे, तू सोता रह
अपनी किस्मत पर रोता रह..

है लाख वजह गर रोने की,
तो एक वजह भी हंसने की
जा भूल उसे जो तेरा नही
नही जरूरत तुझे तरसने की
जो बीत गया वो अतीत तेरा
तू बीते कल में खोता रह..
सब जाग रहे, तू सोता रह
अपनी किस्मत पर रोता रह..

© Kartik Mishra 2018

Co-Credits : Kavi Sandeep Dwivedi Ji.

Kartik Mishra

मेरी कलम से

close up composition desk document
मेरी कलम से..
पत्थर था कभी जो, 
उसे नायाब कोहिनूर कर दिया,
मेरी कोशिशों ने हर दरख्वास्त को 
मंजूर कर दिया..
अरमां दिल के ज़ुबां से 
कभी बयां हुए नही मेरे,
मेरी तड़पती कलम ने ज़माने में
मुझे मशहूर कर दिया..

 

तुझी साथ मिळू दे..

धावपळीच्या या आयुष्याला
थोडं विश्रांत मिळू दे,
या मोकळ्या आकाशाला
तुझी साथ मिळू दे..

तुझ्या भेटीला व्याकूळ झालेला हा वारा
जणू आज तुला भेटून प्रसन्न झालाय

तो पण म्हणतो..
पुन्हा एकदा तुझी साथ मिळू दे,
तुझी साथ मिळू दे..

© 2018 Kartik Mishra
All Rights Reserved